धार्मिक

KnowledgeMandir

हिंदू धर्म का सबसे महान पुराण कौनसा है जिसे सभी को पढ़ना चाहिए?

Total views 774 , and 1 views today

Reading Time: 4 minutes Total views 774 , and 1 views today सनातन धर्म में बहुत सारे शास्त्र है — 18 पुराण, 4 वेद, 2 इतिहास (रामायण और महाभारत) आदि। आज के समय में इतना सब पढ़ना थोड़ा मुश्किल है। अगर सिर्फ़ पुराणों की ही बात करें तो सब पुराणों की श्लोक संख्या कुल मिलाकर 4,00,000 होती है। तो और क्या उपाय है …

हिंदू धर्म का सबसे महान पुराण कौनसा है जिसे सभी को पढ़ना चाहिए? Read More »

Hanuman Chalisa

Hanuman Chalisa lyrics in Hindi (हनुमान चालीसा)

Total views 2,208 , and 2 views today

Reading Time: 2 minutes Total views 2,208 , and 2 views today श्री हनुमान चालीसा ॥ दोहा॥ श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि । बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि ॥ बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार । बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार ॥ ॥ चौपाई ॥ जय हनुमान ज्ञान गुन सागर। जय कपीस तिहुं लोक उजागर।। …

Hanuman Chalisa lyrics in Hindi (हनुमान चालीसा) Read More »

Shiv Chalisa lyrics - English

Shiv Chalisa Lyrics in Hindi (शिव चालीसा)

Total views 767 , and 2 views today

Reading Time: 2 minutes Total views 767 , and 2 views today ॥ दोहा ॥ जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान । कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान ॥ ॥ चौपाई ॥ जय गिरिजा पति दीन दयाला । सदा करत सन्तन प्रतिपाला ॥०१॥ भाल चन्द्रमा सोहत नीके । कानन कुण्डल नागफनी के ॥०२॥ अंग गौर शिर गंग बहाये । मुण्डमाल तन क्षार लगाए ॥०३॥ वस्त्र …

Shiv Chalisa Lyrics in Hindi (शिव चालीसा) Read More »

Shiva Rudrashtakam

Shri Rudrashtakam lyrics in Sanskrit and English

Total views 667 , and 1 views today

Reading Time: < 1 minute Total views 667 , and 1 views today अथ श्रीरुद्राष्टकं नमामीशमीशान निर्वाणरूपं विभुं व्यापकं ब्रह्मवेदस्वरूपम् निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं चिदाकाशमाकाशवासं भजेहम् निराकारमोङ्करमूलं तुरीयं गिराज्ञानगोतीतमीशं गिरीशम् । करालं महाकालकालं कृपालं गुणागारसंसारपारं नतोहम् तुषाराद्रिसंकाशगौरं गभिरं मनोभूतकोटिप्रभाश्री शरीरम् । स्फुरन्मौलिकल्लोलिनी चारुगङ्गा लसद्भालबालेन्दु कण्ठे भुजङ्गा चलत्कुण्डलं भ्रूसुनेत्रं विशालं प्रसन्नाननं नीलकण्ठं दयालम् । मृगाधीशचर्माम्बरं मुण्डमालं प्रियं शङ्करं सर्वनाथं भजामि प्रचण्डं प्रकृष्टं प्रगल्भं परेशं अखण्डं …

Shri Rudrashtakam lyrics in Sanskrit and English Read More »

KnowledgeMandir

कैसे मार्कण्डेय ऋषि को हुए थे श्री हरि के दर्शन ?

Total views 1,199 , and 2 views today

Reading Time: 4 minutes Total views 1,199 , and 2 views today श्रीमद्भागवत महापुराण में प्रलय चार प्रकार के बताए गए है। १. नैमित्तिक प्रलय — यह हर कल्प के अन्त में होता है। २. प्राकृतिक प्रलय — यह ब्रह्माजी की आयु समाप्त हो जाने पर होता है। ३. नित्य प्रलय — व्यक्ति जन्म लेता है और फिर उसकी मृत्यु होती है, उसको …

कैसे मार्कण्डेय ऋषि को हुए थे श्री हरि के दर्शन ? Read More »